निसन्देह: बाटोमा हिड्न सकुँ
बटुवाहरुले मेरो वास्ता नगरुन
कसैका चासो म प्रती नहोस
फलानो ढिस्कानो कसैले नचिनुन
मैले के खाएँ, के लाएँ
के गाएँ
कसैले अन्दाज नगरोस
मलाई सके सम्म यो दुनियाले नचिनोस
अहँ मलाइ प्रख्यात बन्नु छैन।

सादगीका कुनै कथा नबनुन
विरताका पनि गाथा नसुनियोस
रुप रङ्गको प्रचार नगरुन
सेवाका कुनै समाचार नबनोस
कसैले पनि तस्विर नखिचोस
मैले के भोगेँ, के ढोगे
के सहेँ
कसैले पनि वास्ता नगराेस
मलाई सके सम्म दुनियाँले नचिनोस
अहँ मलाइ प्रख्यात बन्नु छैन।

प्रकाशित मिति : २०७८ जेष्ठ ३ गते सोमवार